रोक के बावजूद मोहर्रम पर ताज़िये निकालने पर पूर्व पार्षद उस्मान पटेल सहित छह पर रासुका, 22 गिरफ्तार

मध्य प्रदेश के इंदौर में मुहर्रम जुलूस निकालना पूर्व पार्षद को महंगा पड़ गया है। पूर्व पार्षद उस्मान पटेल समेत अन्य लोगों पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। कोरोना संक्रमण के चलते लगाई गई रोक के बावजूद मोहर्रम पर ताज़िये निकालने के मामले में पुलिस प्रशासन द्वारा सख्त कार्रवाई करते हुए पूर्व पार्षद उस्मान पटेल सहित छह पर रासुका लगाई गई है और 22 को गिरफ्तार किया गया है। इसके साथ ही बता दें कि कलेक्टर ने डीआईजी से रासुका की कार्रवाई करने के लिए कहा है। इस मामले में सख्त कार्रवाई करते हुए केस दर्ज कर लिया गया है और टीआई को लाइन हाजिर कर दिया गया है।

पुलिस का कहना है कि 31 अगस्त को मोहर्रम पर्व की 10 तारीख यौमे आशुरा को खजराना क्षेत्र में ताजिए निकालकर वैश्विक महामारी covid-19 में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नही करने व शासन प्रशासन द्वारा जारी निर्देशों का पालन नहीं कर और बिना अनुमती ताजिये लेकर जुलूस के माध्यम से कर्बला में भीड़ एकत्र करने पर वायरल वीडियो में समाजजनो को भड़काने वाले आरोपियों की पहचान कर थाना खजराना द्वारा धारा 188 ipc व 269, 270 IPCअन्य के तहत कुल-04 प्रकरण 16 नामजद एवम अन्य आरोपियो के विरूध पंजीबद्ध किए गए।

आपको बता दें कि इस वीडियो के वायरल होते ही खजराना थाना प्रभारी संतोष यादव को भी लाइन हाजिर कर दिया गया है। औऱ साथ ही पुलिस ने पूर्व पार्षद उस्मान पटेल सहित 16 लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। इन लोगों पर खजराना में मनाही के बाद मन्नत के तीन ताजिए निकाले का आरोप है। ताजिए बनाने वाले के खिलाफ भी कार्रवाई की जा रही है, क्योंकि उसने तय तीन फीट ऊंचाई का पालन नहीं किया। टीआई की गलती को लेकर एसपी विजय खत्री ने कहा कि उन्हें जुलूस को रोकना चाहिए था, लेकिन टीआई ने कार्रवाई नहीं की। इस वजह से उन्हें लाइन हाजिर किया गया है।

loading...

Check Also

सीएम कैंडिडेट रहे नीतीश अब बोले- मेरा कोई दावा नहीं, कल NDA की बैठक में मुख्यमंत्री पर फैसला

बिहार चुनाव के नतीजों के बाद पहली बार गुरुवार शाम को सीएम नीतीश कुमार मीडिया …

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *