सीएम कैंडिडेट रहे नीतीश अब बोले- मेरा कोई दावा नहीं, कल NDA की बैठक में मुख्यमंत्री पर फैसला

बिहार चुनाव के नतीजों के बाद पहली बार गुरुवार शाम को सीएम नीतीश कुमार मीडिया से मुखातिब हुए। उन्होंने कहा कि जनता मालिक है। अभी फाइनल नहीं हुआ है। चारों घटक दल के साथ कल बैठक करेंगे। आपस में बातचीत करेंगे। विधानमंडल दल की बैठक उसके बाद होगी। बातचीत के बाद ही तय होगा कि कैसे क्या करना है। मुख्यमंत्री को लेकर निर्णय एनडीए की बैठक में होगा।

नीतीश कुमार ने कहा कि हमलोग तो पूरे NDA के लिए अभियान चलाते हैं। खासकर मेरे क्षेत्रों में लोगों को खड़ाकर वोट काटे गए हैं। जानबूझकर हमलोगों के ऊपर प्रहार किया गया है। इसका जवाब तो वही लोग जानेंगे। इस पर निर्णय लेना बीजेपी का काम है। हमलोगों ने एक-दूसरे के लिए काम किए हैं। जेडीयू के बहुत सीटों पर नुकसान किया गया है।

उन्होंने कहा कि हमने अब तक सेवा की है। इतनी की है कि कुछ कहा नहीं जा सकता है। समाज के किसी भी तबके को विकास से पीछे नहीं रखा है। हमारा कोई व्यक्तिगत स्वार्थ नहीं है। समाज के हर तबके को फायदा हुआ है। सड़क, बिजली को लेकर काम किया गया है। सेवा के बाद भी लोग वोट नहीं करते हैं तो ये उसका निर्णय है। समाज के किसी भी तबके को छोड़ा नहीं गया।

सीएम ने कहा- हमने समर्पित भाव से काम किया है

नीतीश बोले कि क्राइम और दंगा को रोका गया। हर काम हमने समर्पित भाव से किया है। हम कभी दावा नहीं करते हैं। विपक्षियों को लोगों को कंफ्यूजन करने में सफलता मिली है। हम एनडीए के फैसले के साथ हैं। मीडिया से अपील की है कि हमारे काम और दूसरे की बोली को सही से तौलें।

उन्होंने कहा कि कोरोना के दौरान बहुत सीरियसली काम हुआ है। बिहार में क्राइम में 21वां स्थान पहुंच गया है। आप लोगों के साथ संवाद कम हुआ है। इसका अनुभव बाद में हुआ। इससे पहले सीएम नीतीश कुमार जदयू कार्यालय पहुंचे। वहां पार्टी के नवनिर्वाचित विधायकों से सीएम ने मुलाकात की। पार्टी को जो इतनी कम सीटें मिली हैं, उस पर कार्यालय में समीक्षा हुई। ​​​​​​​

नीतीश कुमार ने ट्वीट कर दी थी बधाई
बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे 10 नवंबर को ही सामने आ गए हैं। नीतीश कुमार अब तक मीडिया से मुखातिब नहीं हुए थे। ट्वीट कर उन्होंने जनादेश के लिए जनता को सिर्फ बधाई दी थी। इस चुनाव में जदयू को 43 सीटें मिली हैं। जबकि, भाजपा 74 सीट जीतकर NDA में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है। इस हाउस की आखिरी तारीख 29 है। उसके बाद नई सरकार बनेगी।

loading...

Check Also

जो बाइडेन के प्रेसिडेंट बनने से अमेरिका और भारत के रिश्ते मजबूत ही होंगे, जानिए क्यों?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अच्छे दोस्त डोनाल्ड ट्रम्प अब अमेरिका के राष्ट्रपति नहीं रहे। उनकी …

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *